गर्मी पर हास्य कविता :- ग्रीष्म ऋतु पर एक मजेदार कविता | गर्मी में बुरा है हाल हुआ

बढती हुयी गर्मी में कई ऐसी समस्याएँ सामने आती हैं जिनसे निजात पाना हमारे बस की बात नही होती या फिर हम मात्र थोड़े समय के लिए ही उस समस्या से दूर हो पाते हैं। जैसे की धूप से, पसीने से, गर्मी आदि से। ऐसे मौसम के दौरान हमारी स्थिति किस प्रकार कि होती है बस यही प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है इस गर्मी पर हास्य कविता में :-

गर्मी पर हास्य कविता

गर्मी पर हास्य कविता

जाने ये कैसा बवाल हुआ
अपना जीना मुहाल हुआ,
नहा रहे है सब बिन पानी
गर्मी में बुरा है हाल हुआ।

नींद न आती रातों को
पंखे एसी सब फेल हुए
खुद के घर भी अब तो जैसे
लगे तिहाड़ के जेल हुए,
रोता छोटा बच्चा अब तो
अपने जी का जंजाल हुआ
नहा रहे है सब बिन पानी
गर्मी में बुरा है हाल हुआ।

बादल भी देखो उमड़-उमड़ कर
अपने रंग दिखाता है
उम्मीद बंधे जब बरखा की
सबको ये ठेंगा दिखाता है,
शीत लहर तन में लगना
अब तो जैसे एक ख्याल हुआ
नहा रहे है सब बिन पानी
गर्मी में बुरा है हाल हुआ।

एक सन्नाटा सा छाया है
न हवा ही है किसी ओर बहे
साथी हैं बने मच्छर अपने
रो-रो कर अपने किस्से कहें,
नींद उड़ी है रातों की
दिन में बुरा है हाल हुआ
नहा रहे है सब बिन पानी
गर्मी में बुरा है हाल हुआ।

जाने किसका गुस्सा हम पर
सूर्य देव हैं निकाल रहे,
आलू की तरह क्यों हमको
दिन-रात ही ये उबाल रहे,
जाने कौन सी खता हमारी
मन में खड़ा है यही सवाल हुआ
नहा रहे है सब बिन पानी
गर्मी में बुरा है हाल हुआ।

पढ़िए :- कविता ‘शरद ऋतु की सुबह’

गर्मी पर हास्य कविता के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगन तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।