देशभक्ति सुविचार :- देश प्रेम पर 10 अप्रतिम उद्धरण | Desh Bhakti Suvichar

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

देशभक्ति एक ऐसा शब्द जिसे सुनते ही शरीर में एक अजीब सी हलचल होने लगती है। उत्साह की एक भावना मन में अपने आप आ जाती है। कहीं राष्ट्रगान की धुन भी बजती है तो मन उसकी ओर अपने आप आकर्षित हो जाता है और कदम खुद-ब-खुद थम जाते हैं। हर इंसान में देश प्रेम की भावना जन्म के साथ ही आ जाती है। ये किसी को सिखाई नहीं जा सकती। ये तो हमारे व्यव्हार में है। हमारे लहू में है। आइये जगाते हैं उस राष्ट्र भक्ति की भावना को ये देशभक्ति सुविचार पढ़ कर :-

देशभक्ति सुविचार

देशभक्ति सुविचार

1. देशभक्ति मात्र एक शब्द नहीं, एक भावना है। जिससे जुड़ जाने पर इंसान अपने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान भी देने से भी पीछे नहीं हटता।


2. देशभक्ति एक जज्बा है जो हमें दुश्मनों से अपना देश बचाने के लिए प्रेरित करता है। फिर वह दुश्मन चाहे सरहद के उस पार का हो या इस पार का।


3. देशभक्ति एक प्रेम की तरह है। जिसमे अपनी धरती माँ सबसे प्यारी लगती है और जिन्दगी के बाद इसी की गोद में सो जाने की चाहत बाकी रहती है।


4. यदि इंसान में देशभक्ति की भावना न होती तो भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, वीर सावरकर जैसे देशभक्तों से शायद हम अनजान ही रह जाते।


5. अपने कार्य पूरी इमानदारी से और इंसानियत के भले के लिए करना भी देशभक्ति का एक रूप है।


6. एक देश तुम्हें नागरिकता प्रदान करता है तो तुम्हारा भी यह फर्ज है कि एक जिमीदार नागरिक की तरह देशहित में काम करो।


7. लापरवाह और भ्रष्ट होने से पहले एक बार सोचिये अगर सरहद पर खड़े जवान 10 मिनट के लिए सरहद खाली कर दें तो देश का क्या होगा? देशभक्त होना और बात है। देशभक्ति निभाना और बात। अगर देश के जवान सरहद पर हमारी रक्षा कर रहे हैं तो हमारा फर्ज बनता है हम देश को भ्रस्तचार, अपराध और बेरोजगारी जैसी समस्याओं से बचाएं।


8. देश तभी मजबूत बन पायेगा जब हमारी सोच मजबूत होगी। जब हमारा मन और तन दोनों स्वस्थ होंगे। पहले स्वयं को और औरों को मजबूत बनाइये देश खुद-ब-खुद मजबूत हो जायेगा।


9. राष्ट्र को आगे बढ़ाना है तो सभी बच्चों को शिक्षित कीजिये। देश को वो खुद संभल लेंगे।


10. जंग के मैदान में एक फौजी की जंग कुछ पाने के लिए नहीं अपना देश और उस देश में रहने वाले उसके अपनों को बचाने के लिए होती है। इसे ही विजय कहते हैं। इसे ही देशभक्ति कहते हैं।


ये थे कुछ देशभक्ति सुविचार । अगर इन्हें पढ़ कर आपके मन में भी कोई विचार आया हो तो कमेंट बॉक्स में लिखने का कष्ट अवश्य करें।

पढ़िए राष्ट्र प्रेम से जुड़ी ये बेहतरीन रचनाएं :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

3 thoughts on “देशभक्ति सुविचार :- देश प्रेम पर 10 अप्रतिम उद्धरण | Desh Bhakti Suvichar”

  1. Avatar

    Mere institute me ek function h ek sahido k liye….kya KO I merko….KOi achi c poem vagera Bta skta h…Jo me stage pr bol SKU. .or jo sbko achi lgee

  2. Avatar
    डॉ. ईश्वर सिंह

    देशभक्ति के सुविचार के साथ उसके लेखक का नाम भी दिया जाना चाहिए और साथ ही संदर्भ भी दिया जाना चाहिए कि ये विचार लेखक ने किस पुस्तक में व्यक्त किए हैं।

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      डॉक्टर ईश्वर सिंह जी यह देशभक्ति रचना मेरे द्वारा लिखी गयी है और अभी यह किसी पुस्तक में प्रकाशित नहीं करवाई गई है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *