कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता :- कृष्ण के जन्म का वर्णन करती एक कविता

जन्माष्टमी :- भगवन कृष्ण के जन्म का उत्सव है। वेदों और पुरानों के अनुसार कृष्ण जी का जन्म भाद्रपद अष्टमी को हुआ था। इस कविता में हमने उनके जन्म का वृतांत बताने का प्रयास किया है कि किस हालात में उनका जनम हुआ और जन्म के बाद क्या हुआ ? ‘ कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता ‘ में :-

कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता

कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता

रात अंधियारी कारी, जन्मे जब कृष्ण मुरारी,
खुल गयीं तब बेड़ियाँ सारी, जब जन्म लिए बनवारी।

धन्य हुए वसुदेव देवकी, खुशियाँ जीवन में पधारी,
कंस के अंत की तब तो, हो गयी पूरी तैयारी।

खुल गए सब ताले झट से, सो गए दरबान भी सारे,
कान्हा को लेकर फिर, वसुदेव गोकुल को पधारे।

छायी घन घोर घटायें, आफत सी बरसती जाएँ,
यमुना का जल भी देखो, हर पल बढ़ता ही जाए।



वसुदेव सब देख रहे थे, फिर भी हिम्मत न हारे
कृष्णा को लेकर वो फिर, झट से बढ़ गए थे आगे।

आगे वसुदेव जी चलते, कान्हा को सिर पे थामे,
पीछे थे शेष नाग जी, वो भी कान्हा को ढांके।

गोकुल में जब वो आये, सबको सोते हुए पाए,
यशोदा की उठा के बेटी, कृष्णा को वहाँ लिटाये।

वापस आ गए फिर मथुरा, हाथों में बेड़ियाँ आई,
दरबान जागे फिर सारे, सूचना कंस को पहुंचाई।

जैसे वो मारने आया, देवी ने रच दी माया
गोकुल वो पहुँच चुका है, तुझको जो मारने आया।

गोकुल में फैली खुशियाँ, सब ने फिर जश्न मचाया,
जग का उद्धार करने, कृष्णा इस जग में आया।

प्रभु के दर्शन करने को, आये फिर नर और नारी,
सबका है अंत अब आया, जितने हैं अत्याचारी।

रात अंधियारी कारी, जन्मे जब कृष्ण मुरारी,
खुल गयीं तब बेड़ियाँ सारी, जब जन्म लिए बनवारी।



पढ़िए :- कृष्ण, अर्जुन और एक ब्राह्मण की प्रेरणादायक कहानी

आपको यह ‘ कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता ‘ कैसी लगी? कमेंट बॉक्स में अवश्य बतायें। यदि आप भी रखते हैं शौंक कवितायें या कहानियां लिखने का। तो लिख भेजें हमें अपनी रचनाएँ। रचना उत्तम होने पर अपने ब्लॉग में अवश्य प्रकाशित करेंगे।धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

9 Responses

  1. सिंगर परमानंद सोनी कहते हैं:

    बहुत सुंदर

  2. sukhmangal singh कहते हैं:

    'जन्माष्टमी "
    बांके बिहारी ब्रज त्रिपुरारी ब्रह्माण्ड मुरारी आयेंगे
    गर दिल कभी लगे भटकने अम्बरीष अवनि छायेंगे|
    गोकुल कदम्ब की डाली छवि दर्पण साज सजायेंगे
    बांके बिहारी ब्रज त्रिपुरारी ब्रह्माण्ड मुरारी आयेंगे ||
    तान निराली वंशी धुन में मुरलीधर राग सुनायेंगे
    दूध मलाई माखन मिसरी कंहैया जी भोग लगायेंगे |
    द्रोपदी की लाज बचाने कृष्ण कन्हैया जी आयेंगे
    बांके बिहारी ब्रज त्रिपुरारी ब्रह्माण्ड मुरारी आयेंगे ||
    सुदामा से प्रेम निभाने नन्द जी के धर पर आयेंगे
    अर्जुन का सारथी बनकर मित्रता संकल्प दिखाएँगे|
    आलस्य त्याग का पाठ पढ़ाने जन्मास्टमी आयेगी
    बांके बिहारी ब्रज त्रिपुरारी ब्रह्माण्ड मुरारी आयेंगे | |

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।