आत्मविश्वास पर कविता :- मैं कामयाब हो गया हूँ | कामयाबी की कविता – 2

दुनिया का तो काम ही है दूसरों को पीछे धकेलना मगर कामयाब वही होता है जो दुनिया वालों के चक्कर में न पड़ कर अपनी मंजिल की ओर बढ़ता है। अंग्रजी में अरस्तु ( Aristotle ) की एक कहावत है “वेल बिगन इस हाफ डन” ( Well Begun Is Half Done )। जिसका अर्थ है कि अच्छी शुरुआत आधा काम सफलतापूर्वक पूरा हो जाने का सूचक है। क्योंकि काम करने से ज्यादा मुश्किल होता है उस काम को पूरे आत्मविश्वास के साथ शुरू करना। इसलिए काम शुरू करने से पहले आपको अपना आत्मविश्वास जगाना होता है कि आप एक सफल व्यक्ति हैं और आप इस काम को अच्छे ढंग से कर सकते हैं। बस फिर आपको सफलता पाने से कोई नहीं रोक सकता। इसी आत्मविश्वास के भाव की प्रेरणा देती है यह आत्मविश्वास पर कविता :-

आत्मविश्वास पर कविता

आत्मविश्वास पर कविता

जब से सीखा है गिर कर उठने का हुनर
उस वक़्त से ही मैं नायब हो गया हूँ,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

नहीं दुखाती दिल मेरा अब, लोगों की कड़वी भाषा
कैसे भी हों हालात सदा मन में रहती एक आशा
रुकता नहीं है जो कभी राहों में
बहता हुआ मैं वो आब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

बदल गए हैं मायने जिंदगी के मेरे
बदल गया है सब देखने का नजरिया मेरा
अपनी नजरों में सुलझ गया पर
दूसरों के लिए उलझा हुआ हिसाब हो गया हूँ मैं,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

नहीं सोचता क्या सोचेगा कोई
कोई क्या कहेगा अब ये डर नहीं सताता,
मुझसे ही है जंग मेरी
मै अपने लिए ही इंकलाब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

पूरे करने अपने दम पे हैं
जो सपने दिल में पनपे हैं
मंजिल पाने को अब अपनी
हद से ज्यादा बेताब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

जब से सीखा है गिर कर उठने का हुनर
उस वक़्त से ही मैं नायब हो गया हूँ,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

पढ़िए :- कामयाबी पर बेहतरीन स्टेटस और कोट्स

इस कविता का विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें :-

आशा करते हैं आपको आत्मविश्वास पर कविता पसंद आई होगी। यदि आपके अन्दर भी इस कविता को पढ़ कर आत्मविश्वास का भाव उत्पन्न हुआ हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

1 Response

  1. Dilkewords कहते हैं:

    Best poem Aatmavishwas se hi hame aadhi jeet mil jati hai

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।