आत्मविश्वास पर कविता :- मैं कामयाब हो गया हूँ | Atmavishwas Par Kavita

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

दुनिया का तो काम ही है दूसरों को पीछे धकेलना मगर कामयाब वही होता है जो दुनिया वालों के चक्कर में न पड़ कर अपनी मंजिल की ओर बढ़ता है। अंग्रजी में अरस्तु ( Aristotle ) की एक कहावत है “वेल बिगन इस हाफ डन” ( Well Begun Is Half Done )। जिसका अर्थ है कि अच्छी शुरुआत आधा काम सफलतापूर्वक पूरा हो जाने का सूचक है। क्योंकि काम करने से ज्यादा मुश्किल होता है उस काम को पूरे आत्मविश्वास के साथ शुरू करना। इसलिए काम शुरू करने से पहले आपको अपना आत्मविश्वास जगाना होता है कि आप एक सफल व्यक्ति हैं और आप इस काम को अच्छे ढंग से कर सकते हैं। बस फिर आपको सफलता पाने से कोई नहीं रोक सकता। इसी आत्मविश्वास के भाव की प्रेरणा देती है यह आत्मविश्वास पर कविता :-

आत्मविश्वास पर कविता

आत्मविश्वास पर कविता

जब से सीखा है गिर कर उठने का हुनर
उस वक़्त से ही मैं नायब हो गया हूँ,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

नहीं दुखाती दिल मेरा अब, लोगों की कड़वी भाषा
कैसे भी हों हालात सदा मन में रहती एक आशा
रुकता नहीं है जो कभी राहों में
बहता हुआ मैं वो आब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

बदल गए हैं मायने जिंदगी के मेरे
बदल गया है सब देखने का नजरिया मेरा
अपनी नजरों में सुलझ गया पर
दूसरों के लिए उलझा हुआ हिसाब हो गया हूँ मैं,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

नहीं सोचता क्या सोचेगा कोई
कोई क्या कहेगा अब ये डर नहीं सताता,
मुझसे ही है जंग मेरी
मै अपने लिए ही इंकलाब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

पूरे करने अपने दम पे हैं
जो सपने दिल में पनपे हैं
मंजिल पाने को अब अपनी
हद से ज्यादा बेताब हो गया हूँ
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

जब से सीखा है गिर कर उठने का हुनर
उस वक़्त से ही मैं नायब हो गया हूँ,
दुनिया की नजरों में नाकाम सही
मगर खुद की नजरों में, मैं कामयाब हो गया हूँ।

पढ़िए :- कामयाबी पर बेहतरीन स्टेटस और कोट्स

आशा करते हैं आपको आत्मविश्वास पर कविता पसंद आई होगी। यदि आपके अन्दर भी इस कविता को पढ़ कर आत्मविश्वास का भाव उत्पन्न हुआ हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की बेहतरीन प्रेरणादायक कविताएं :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

2 thoughts on “आत्मविश्वास पर कविता :- मैं कामयाब हो गया हूँ | Atmavishwas Par Kavita”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *