गौतम बुद्ध के बारे में 10 रोचक तथ्य | Interesting Facts About Gautam Buddha

बुद्ध धर्म के प्रवर्तक “ महात्मा गौतम बुद्ध ” के बारे में शायद ही कोई न जानता हो। लेकिन उनके जीवन से जुड़ी ऐसी कुछ बातें हैं जो बहुत ही कम लोग जानते होंगे। आइये जानते हैं क्या हैं वह बातें  “ गौतम बुद्ध के बारे में 10 रोचक तथ्य ” में :-

गौतम बुद्ध के बारे में 10 रोचक तथ्य

गौतम बुद्ध 10 रोचक तथ्य


1. ऐसा कहा जाता है कि जिस रात महामाया ने गौतम बुद्ध को गर्भ में ग्रहण किया था, उसी रात उन्होंने स्वपन देखा था कि एक सफ़ेद हाथी ने सूंढ़ में सफ़ेद कमल लिए हुए उनके गर्भ में प्रवेश किया।


2. पौराणिक कथाओं के अनुसार गौतम बुद्ध का जन्म उनके माता-पिता के विवाह के 20 वर्ष बाद हुआ था।


3. गौतम बुद्ध के जन्म के सात दिन बाद ही उनकी माता महामाया का संक्रामक रोग के कारण देहांत हो गया था। उसके बाद उनका पालन-पोषण महाप्रजापति गौतमी ने किया था। वे महामाया की छोटी बहन व शुद्धोधन की पत्नी थीं।


4. गौतम बुद्ध को किसी भी प्रकार से कोई दुःख न पहुंचे इस बात का उनके पिता बहुत ध्यान रखते थे। वे मौसम के प्रभाव से भी बचे रहें इसलिए उनके पिता  ने शीत ऋतु, ग्रीष्म ऋतु और वर्षा ऋतु में रहने के लिए तीन अलग-अलग महल बनवाये गए थे।


5. गौतम बुद्ध से विवाह करने वाली यशोधरा उन्हीं के मामा की लड़की थी। वे यशोधरा को प्यार से “ गोपा ” कहकर बुलाते थे।


6. गौतम बुद्ध और यशोधरा के घर पहले पुत्र ने उनके विवाह के 13 वर्षों बाद जन्म लिया।


7. गौतम बुद्ध के घर जब पुत्र ने जन्म लिया तो उन्हें वह पुत्र अपने सन्यासी जीवन तक जाने वाले रास्ते की बाधा लगा। इसलिए उन्होंने उसके जन्म पर कहा “ राहू का जन्म हुआ है। ” यह सुनते ही नवजात शिशु के दादा ने उसका नाम राहुल रख दिया।


8. गौतम बुद्ध के प्रथम अनुयायी दो व्यापारी तापुसा और भाल्लिका थे।


9. गौतम बुद्ध के प्रिय शिष्य “ आनंद ” उनके चचेरे भाई थे।


10. सन 329 इ.पू. में सम्राट अशोक ने गौतम बुद्ध के जन्म स्थान पर एक स्तंभ बनवाकर उस पर लिखवाया था “हिदा भगवाम् जतेती” जिसका अर्थ है कि भगवान बुद्ध का जन्म यहीं हुआ था।


“ गौतम बुद्ध के बारे में 10 रोचक तथ्य ” ( Interesting Facts About Gautam Buddha ) आपको कैसे लगे? अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स के जरिये जरूर बताएं।

पढ़िए गौतम बुद्ध से संबंधित यह बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

Add Comment

आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?