Tagged: कविताएँ माँ पर

माँ की अहमियत

माँ की महिमा कविता :- न जाने कितने त्याग वो करती है | कविता माँ पर

माँ हमें जन्म देती है। पालती-पोसती है। संतान का पूरा ध्यान रखती है। ताकि उसे कभी कोई दुःख न हो। हमारे लिए वो अपना सारा जीवन दांव पर लगा देती...

माँ की लोरी कविता :- बचपन की यादें समेटे हुए एक प्यारी सी कविता भाग – 3

बचपन की यादें हमारे साथ सारी जिंदगी रहती हैं। यही वो पल होते हैं जो हमें हर अवस्था में अछे लगते हैं और फिर से उसी बचपन में लौट जाने...

प्यार का मतलब

माँ की दुआ ही सबसे ज्यादा काम आती हैं | माँ की दुआएं हिंदी कविता

इश्वर की सबसे सुन्दर रचना है नारी और नारी रूप में सबसे ज्यादा पूजनीय है ‘माँ।’ माँ की महिमा का बखान तो सारा जग करता है। ऐसा अक्सर कहा जाता...

बेटी की पुकार कविता

माँ की कोख :- शुभा पाचपोर द्वारा लिखी गयी एक ममतामयी कविता

माँ की महिमा को सारा जहां गाता है। माँ पर रचनाएं भी रची गयी हैं। लेकिन जिस प्रकार की रचना आज आपके लिए शुभा पाचपोर जी ने भेजी है। वैसी...

माँ की अहमियत

माँ की अहमियत :- माँ की याद में रुला देने वाली हिंदी कविता

माँ की याद में आप इस ब्लॉग पर पहले ही कुछ कविताएँ पढ़ चुके हैं। पर माँ के बारे में जितना भी लिखते जाओ उतना ही कम होगा। फिर भी...

माँ के क़दमों में सारा जहान

माँ के क़दमों में सारा जहान :- माँ पर कुछ पंक्तियाँ कविता के रूप में | Maa Par Kavita

इन्सान एक सामाजिक प्राणी है। उसे समाज में बने रिश्तों के ताने-बाने के बीच रहना पड़ता है। इनमे कई रिश्ते बहुत ख़ास होते हैं और कई साधारण लेकिन इनमे एक...