गर्मी पर कविता

गर्मी पर कविता :- गर्मी का मौसम है आया और ओ सूरज भगवान्

बसंत की सुहानी ऋतू के बाद जब ग्रीष्म ऋतू आती है तो हाल बेहाल हो जाता है। फिर तो बस सब गर्मी को कोसना शुरू कर देते हैं। चारों तरफ गर्मी से पीड़ित लोग...

दिल ने फिर याद किया

दिल ने फिर याद किया :- किसी खास के लौट आने की उम्मीद में कविता

जिदगी में कभी कोई इतना दूर चला जाता है कि हम बस उसके वापस आने की ख्वाहिश ही कर पाते हैं। जोकि कभी पूरी नहीं हो सकती। दिल से हर पल उसके वापस आने की...

सौर मंडल

सौर मंडल के ग्रह – हमारे सौर मंडल की सामान्य जानकारी | Surya Mandal

हमारे सौर मंडल के बारे में पूर्ण जानकरी न होने के कारण पहले ऐसा माना जाता था कि धरती सौर मंडल का केंद्र है और सूर्य इसकी परिक्रमा करता है। लेकिन भारतीय गणितज्ञ और...

पिता को श्रद्धांजलि :

पिता को श्रद्धांजलि :- पिता की याद में पिता पर कविता

माँ की महिमा का वर्णन तो सारा जहान करता है लेकिन पिता के कर्त्त्वयों का गुणगान कोई-कोई ही करता है। अक्सर पिता के रहते शायद किसी को उनकी कही बात बुरी लग जाती हो।...

न जाने कहाँ तू चली गयी माँ :- माँ की याद में मार्मिक कविता

इंसान को जीवन देने वाली माँ ही होती है। उसके जीवन को आधार  देने वाली भी माँ ही होती है। एक माँ का दर्जा किसी इन्सान के जीवन में भगवान् से कम नहीं होता।...

शायरी की डायरी

शायरी की डायरी :- मेरी डायरी से कुछ चुनिंदा शेरों का शायरी संग्रह

‘ शायरी की डायरी ‘ शायरी संग्रह by संदीप कुमार सिंह। पढ़िए संदीप कुमार सिंह की डायरी से कुछ बेहतरीन शेर :- शायरी की डायरी 1. दुश्मन दिलों में नफरतों का सैलाब लिए चलते...