कर्म ही जीवन है :- कर्म करने की प्रेरणा देती हिंदी कविता | तुझे फल देंगे भगवान

श्रीमद्भगवद्गीता में भगवान् श्री कृष्ण ने कहा है कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन । मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ।। अर्थात कर्तव्यकर्म करने में ही तेरा अधिकार है फलों में कभी नहीं।...

अंधविश्वास पर छोटी कहानी: ऋषि का तप और बिल्ली का सच | हिंदी लोक कथा

अंधविश्वास पर छोटी कहानी मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और आज सबसे ज्यादा विकसित प्राणी भी। एक सामाजिक प्राणी होने के नाते मनुष्य अलग-अलग समूहों, जातियों, धर्मो आदि में बंटा...

नशा मुक्ति पर कविता :- नशा मुक्त भारत है बनाना | नशे पर कविता

नशे की मार से आज पूरा भारत तड़प रहा है। आज जरूरत है तो नशे को मार भगाने की। हमें एक नया भारत बनाने की। तो आइये आज ये संकल्प...

माँ की लोरी कविता :- बचपन की यादें समेटे हुए एक प्यारी सी कविता भाग – 3

बचपन की यादें हमारे साथ सारी जिंदगी रहती हैं। यही वो पल होते हैं जो हमें हर अवस्था में अछे लगते हैं और फिर से उसी बचपन में लौट जाने...

पर्यावरण पर स्लोगन

पर्यावरण पर स्लोगन :- पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करते स्लोगन

पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करते पर्यावरण पर स्लोगन :- पर्यावरण पर स्लोगन 1. पर्यावरण को स्वच्छ बनायें, आओ पेड़ पौधे लगायें। 2. बोलेगी चिड़िया डाली-डाली, पहले फैलाओ हरियाली। 3....

गर्मी पर हास्य कविता :- ग्रीष्म ऋतु पर एक मजेदार कविता | गर्मी में बुरा है हाल हुआ

बढती हुयी गर्मी में कई ऐसी समस्याएँ सामने आती हैं जिनसे निजात पाना हमारे बस की बात नही होती या फिर हम मात्र थोड़े समय के लिए ही उस समस्या...