दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट की रैंकिंग और जानकारी

अगर आप लोग पासपोर्ट के बारे में जानते हैं तो वीजा के बारे में भी जानते होंगे। जी हाँ, वीजा। ये एक ऐसा दस्तावेज होता है जिससे किसी को किसी देश में प्रवेश करने की अनुमति मिलती है। लेकिन उससे भी पहले जरूरत पड़ती है पासपोर्ट की। पर आप शायद ही ये जानते हों कि कई ऐसे देश है जिनके पासपोर्ट इतने शक्तिशाली हैं कि उन्हें कई देशों में जाने के लिए वीजा की जरूरत ही नहीं पड़ती। तो आइये जानते हैं कि कौन से ऐसे देश हैं जिनके पासपोर्ट दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट हैं। इतने दमदार की उन्हें रोकती नहीं कई देशों की सरकार :-

दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट

दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट

1. सिंगापुर

दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट सूची में पहले नंबर पर है सिंगापुर। 24 अक्टूबर, 2017 को सिंगापुर एशिया का पहला ऐसा देश बन गया जिसका पासपोर्ट इतना ताकतवर है कि वहाँ के नागरिकों को 159 देशों में जाने के लिए वीजा की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी।

1 अप्रैल, 2005 से पहले बने पासपोर्ट की वैधता 10 वर्ष की होती है और उसके बाद बने पासपोर्ट की वैधता 5 वर्ष की होती है। अगस्त 2006 में बायोमेट्रिक सिस्टम आने से पहले 11 से 18 वर्ष के बीच के पुरुषों के लिए पासपोर्ट 2 साल के लिए वैध होता था। हर दो वर्ष के बाद या तो उसे बदल दिया जाता था या फिर नवीकरण कर दिया जाता था। अब जबकि बायोमेट्रिक सिस्टम से पासपोर्ट बनने लगे हैं तो उसे सिर्फ संशोधित किया जा सकता है। विदेशी यात्रा पर यह पासपोर्ट मात्र 6 महीने तक ही वैध रहता है।

2. जर्मनी

दूसरे नंबर पर जर्मनी है। जिसके पासपोर्ट से वहाँ के नागरिक 158 देशों की यात्रा बिना वीजा के कर सकते हैं। जर्मनी का पासपोर्ट पहचान पत्र के रूप में भी अपनाया जाता है। 24 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों के लिए पासपोर्ट 10 साल तक वैध होता है। 24 वर्ष और उस से कम वालों का पासपोर्ट 6 साल के लिए वैध होता है।

जर्मनी के नागरिक यूरोपीय संघ के भी नागरिक होते हैं। यूरोपीय संघ 28 देशों का एक राजनैतिक एवं आर्थिक मंच है जिनमें आपस में प्रशासकीय साझेदारी होती है जो संघ के कई या सभी राष्ट्रों पर लागू होती है। इन देशों के नागरिक यूरोपीय संघ के 28 देशों में बिना वीजा के घूम सकते हैं28 देशों का एक राजनैतिक एवं आर्थिक मंच है जिनमें आपस में प्रशासकीय साझेदारी होती है जो संघ के कई या सभी राष्ट्रो पर लागू होती है।

यूरोपीय संघ के ये 28 देश हैं :-

आस्ट्रिया, बेल्जियम, बुल्गारिया, साइप्रस, चेक गणराज्य, डेनमार्क, एस्तोनिया, फिनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, हंगरी, आयरलैंड, ईटली, लातीविया, लिथुआनिया, लक्जमबर्ग, माल्टा, नीदरलैंड, पोलैंड, पुर्तगाल, रोमानिया, स्लोवाकिया, स्लोवानिया, स्पेन, स्वीडन, एवं युनाइटेड किंगडम।

इन देशों में सिर्फ घूमना-फिरना ही नहीं बल्कि इन देशों के नागरिक इन देशों में कहीं भी रह सकते हैं और कहीं भी काम कर सकते हैं। बस जरूरत हैं तो साथ में पासपोर्ट होने की। यही बात पासपोर्ट को ज्यादा ताकतवर बनाती है।

3. स्वीडन

तीसरे स्थान पर स्वीडन विराजित हैं। इस देश के नागरिक 157 देशों में बिना वीजा यात्रा कर सकते हैं। स्वीडन के पासपोर्ट के बारे में सबसे रोचक बात ये है कि यहाँ का कोई भी नागरिक एक ही समय पर अपने 2 पासपोर्ट बना के रख सकता है। अक्टूबर, 2006 से जबसे बायोमेट्रिक सिस्टम उपयोग में लाया गया तब से यहाँ का पासपोर्ट 5 साल के लिए वैध है। उस से पहले बच्चों के लिए 5 साल और वयस्कों के लिए 10 साल की वैधता थी।

बात करें 2 पासपोर्ट रखने की तो ये 2 तरह के होते हैं। एक साधारण जैसा कि सबके पास होता है। दूसरा है जो किसी ख़ास काम के लिए बनवाया जाता है। इसकी वैधता उस ख़ास काम के ऊपर निर्भर करती है। लेकिन इसकी वैधता साधारण पासपोर्ट से कम ही होती है। ये पासपोर्ट उस समय काम आता है जब आपने किसी देश के वीजा के लिए साधारण पासपोर्ट के साथ आवेदन किया हो। उसके इलावा एक ख़ास मौके पर भी इसको प्रयोग में लाया जाता है। जब कोई देश आपको इस बात के लिए वीजा नहीं देता कि आप उसके दुश्मन देश में यात्रा कर चुके हैं। उस समय ये ख़ास पासपोर्ट ही काम आता है।

भारतीय पासपोर्ट की जानकारी

अब आप ये जानना चाहते होंगे कि दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट वाले देशों में भारत किस स्थान पर है। भारत इस सूची में 74वें स्थान पर है। भारत के पासपोर्ट से एक भारतीय 51 देशों की यात्रा बिना वीजा के कर सकता है। अगर इसकी तुलना पड़ोसी देशों से की जाए तो नेपाल ( 88 ), पाकिस्तान ( 92 ), भूटान ( 75 ), बांग्लादेश ( 89 ) स्थान पर हैं।

इस सूची में सब से नीचे है अफगानिस्तान। जोकि 93वें स्थान पर हैं। इस देश के नागरिक मात्र 22 देशों में ही बिना वीजा यात्रा कर सकते हैं।

अगर बात की जाए भारतीय पासपोर्ट की तो भारत के अलग-अलग राज्यों में 93 केंद्र हैं जहाँ से आप अपना पासपोर्ट बनवा सकते हैं। ये पासपोर्ट 3 तरह के होते हैं :-

साधारण पासपोर्ट

यह पासपोर्ट गाढ़े नीले रंग का होता है। ये पासपोर्ट ‘P’ टाइप का होता है जिसका अर्थ है पर्सनल ( व्यक्तिगत )। ये साधारण लोगों के लिए होता है।

अधिकारिक पासपोर्ट

यह पासपोर्ट सफ़ेद रंग का होता है। यह सरकरी अधिकारीयों को ही मिलता है। जब वह व्यक्तिगत तौर पर भारत का नेतृत्व करते हुए किसी और देश में जाते हैं। ये पासपोर्ट ‘S’ टाइप का होता है। इसका अर्थ है सर्विस ( सेवा )।

डिप्लोमेट पासपोर्ट

यह पासपोर्ट उच्च अधिकारीयों और राजनीतिज्ञों को दिया जाता है। जब वह अधिकारिक तौर पर भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए किसी और देश में जाते हैं। यह ‘D’ टाइप का पासपोर्ट होता है। जिसका अर्थ है डिप्लोमेट।

भारत में आवश्यक कार्य होने पर तत्काल पासपोर्ट की सुविधा भी उपलब्ध है। यह बहुत ही कम अवधि के लिए वैध होता है। बाद में यह साधारण पासपोर्ट बन जाता है।

तो ये थी दुनिया के सबसे ताकतवर पासपोर्ट की रैंकिंग और जानकारी। आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बतायें।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।