हिंदी कविता धन्यवाद करिए उस प्रभु को | Hindi Kavita Dhanyavad

हमारे जीवन में जाने-अनजाने बहुत से लोग और चीजें ऐसी होती हैं जो हमारे जीवन को सरल बनाती हैं। जो हमारे जीवन के लिए आवश्यक हैं। हम उन चीजों या लोगों से अपना रिश्ता बना कर रखते हैं। लेकिन शायद हम उन्हें कभी अहसास नहीं दिलाते की वो हमारे लिए कितने ख़ास हैं। लेकिन हम उन्हें अहसास दिलाएं कैसे? कैसे बताएं उन्हें की वो हमारे लिए कितने ख़ास हैं? तो आपको करना बस इतना ही है की आप उन्हें उन सब कार्यों के लिए धन्यवाद कहें, जो उन्होंने आप के लिए किया है। इसी विषय पर आधारित है यह “ हिंदी कविता धन्यवाद ” :-

हिंदी कविता धन्यवाद

हिंदी कविता धन्यवाद

धन्यवाद करिए उस प्रभु को
जिसने जीवन दान दिया।
श्रेष्ठ सभी जीवों में हमको
इस धरती पर स्थान दिया।।

धन्यवाद करो माता-पिता को
हमें जिन्होंने पाला है।
हर विपत्ति दुख-दुविधा में
हर क्षण हमें संभाला है।।

धन्यवाद करिए गुरुवर को
हमको जिनसे ज्ञान मिले।
उनकी शिक्षा के बल पर ही
जब में सबसे सम्मान मिले।।

धन्यवाद करिए धरती को
अन्न हमें दे खाने को।
प्रकृति के भंडार सौंपती
जीवन सुखद बनाने को।।

धन्यवाद करिए उन सबको
जिनसे हमारा नाता है।
जिनके होते जीवन अपना
खुशियों से भर जाता है।

धन्यवाद करिए दिनकर को
जो प्रकाश फैलाते हैं।
सदा समय पर काम करो सब
पाठ यही सिखलाते हैं।।

“ हिंदी कविता धन्यवाद ” के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।


पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।