तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा शायरी संग्रह | Hindi Shayari Collection

प्रिय पाठकों, अभी तक आपने कई शब्दों जैसे की सफलता, दोस्ती, पिता, माता आदि पर हमारे द्वारा लिखी गयीं शायरियां पढ़ीं। इसी क्रम को बदलाव के साथ थोड़ा आगे बढ़ाते हुए इस बार हमने एक पंक्ति ‘तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा’ पर शायरी संग्रह तैयार किया है। इस शायरी संग्रह में दर्द भी है और प्यार भी। आशा करता हूँ कि इस शायरी संग्रह को भी आप बाकी शायरी संग्रहों की तरह ही अपना प्यार देंगे। तो आइये पढ़ते हैं :-

तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा

तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा

1.

तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा
बस तड़प-तड़प कर रह जाऊंगा,
जाने न दूंगा दूर कहीं
सारी दुनिया से मैं लड़ जाऊँगा।

2.

तुमसे है ये सूरज रोशन, तुमसे ही सजी हर रात है
तुमसे ही जुड़ी हर ख्वाहिश है, तुमसे ही जुड़े जज़्बात हैं,
तुमसे बिछड़ कर इस दुनिया में और कहाँ मैं जाऊंगा
सोच के देखो अब तुम ये, तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा?

3.

वादा है तुमसे ये मेरा, मैं दूर कभी न जाऊंगा
जो भी किया है तुमसे वो, हर वादा अब मैं निभाऊंगा
तेरी ख़ुशी के लिए तो मैं जहर तक पी जाऊंगा, पर
जो छोड़ गए तुम मुझको कभी, तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा?

4.

मैं शाम तुम सहर हो, मैं सागर तुम लहर हो,
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा, तुम ही तो मेरे आठों पहर हो।

5.

तुम्हारे होने से ही ये दिल धड़कता है
तुम्हारे होने से ही ये मन मचलता है,
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा
तुम्हारे होने से ही तो ये जीवन चलता है।

6.

न जाने क्यों बिछड़ गए हो तुम
न जाने क्या चाहता है विधाता,
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा
अब बस यही सवाल सताता है।

7.

तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा, इस दुनिया में न रह पाउँगा
धड़कन होगी सीने में पर मैं जीते जी ही मर जाऊँगा,
ये एक गुजारिश है तुझसे, न दूर तू जाना अब मुझसे
जब मन को चैन न होगा तब, न जाने मैं क्या कर जाऊंगा?

8.

दिल की धडकनों पर तुम्हारा ही राज है
जिंदगी की हर धुन में तुम्हारा ही साज है,
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा
तुमसे ही तो मेरे जीने का अंदाज है।

9.

दूर रहूँगा कैसे मैं
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा,
इस बोझिल जीवन से मुक्ति को
मैं तो जहर भी पी जाऊंगा।

10.

दूरी तुमसे एक पल की भी बर्दाश्त न मुझसे होती है,
बिन तेरे जिन्दा रहना, भला मैं कैसे सह पाउँगा,
क्या बीतती है मुझपर ये कभी, सोच के देखा है तुमने
साँसें लेना मुश्किल होगा, तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा?

11.

कभी सोच लिया होता तुमने
तुमबिन मैं कैसे जी पाउँगा,
लाश ये जिन्दा तन होगा
मैं जीते जी ही मर जाऊंगा।

12.

न चाँद बड़े न तारे हैं
मैं सूरज भी नीचे ले आऊंगा,
पर ये तो बता दो मुझको तुम
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा?

13.

तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा
ये दूरी कैसे सह पाउँगा,
जब तक हो सामने ठीक है सब
इक पल न बाद में रह पाऊंगा।

14.

ये वक़्त कहाँ फिर पाउँगा
मैं तो इक पल में ही मर जाऊंगा,
जो साथ तुम्हारा न होगा
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा?

15.

मेरे दिन की ढलती शाम हो तुम, इक खुशियों का पैगाम हो तुम,
मेरी गीता और कुरान हो तुम, मेरी आरती और अज़ान हो तुम,
जो नशा चढ़ा देता मुझको, बस वही नशीला जाम हो तुम,
तुम बिन मैं कैसे जी पाउँगा इस तड़पते दिल का आराम हो तुम।

इस शायरी संग्रह के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर दें। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचना भी हमारे ब्लॉग पर प्रकाशित हो तो अभी लिख भेजिए अपनी रचनाएं [email protected] पर। यदि आपके पास कोई बेहतर सुझाव हो तो भी आप हमसे इसी मेल आईडी पर संपर्क कर सकते हैं।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उम्मीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *