पिता पर कविता – बंजर है सपनों की धरती | पिता का दर्द बयान करती कविता हिंदी में

हमें जन्म देने वाले हमारे पिता जो हमारे लिए अपना सारा जीवन दुखों और परेशानियों में बिता देते हैं। पर बदले में आज की युवा पीढ़ी क्या कर रही है? आज बस अपने स्वार्थ...