इन बेशर्मों की बस्ती में | देश की दुर्दशा बताती हिंदी कविता

आज हमारे देश की हालत तो आप सभी को पता ही है। हमारा देश कभी सोने की चिड़िया हुआ करता था। लेकिन इस चिड़िया के पर काट लिए गए। पहले मुग़लों ने जी भर...