पर्यावरण पर स्लोगन :- पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करते स्लोगन

पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित करते पर्यावरण पर स्लोगन :-

पर्यावरण पर स्लोगन

पर्यावरण पर स्लोगन

1.

पर्यावरण को स्वच्छ बनायें,
आओ पेड़ पौधे लगायें।

2.

बोलेगी चिड़िया डाली-डाली,
पहले फैलाओ हरियाली।

3.

सबको होश में लाना है,
पर्यावरण हमें बचाना है।

4.

सबको देनी है ये शिक्षा,
पर्यावरण की करो सुरक्षा।

5.

पर्यावरण को जो न बचायेंगे,
तो हम धरा पर न रह पाएंगे।

6.

प्रकृति ने आपको जन्म दिया है,
आप इसे मरने से बचाएं।

7.

पर्यावरण का जो करे सम्मान,
सही मायनों में वही इन्सान।

8.

जो पर्यावरण न बचाओगे,
तो मौत से पहले मर जाओगे।

9.

जीवन का यही आधार है,
पर्यावरण भी हमारा परिवार है।

10.

नाचे मोर, कोयल भी गाये,
आओ पर्यावरण बचाएं।

11.

कभी न होगा अपना मंगल,
काट दिए जो हमने जंगल।

12.

प्रकृति का जो दृश्य भव्य है,
इसको बचाना सबका कर्तव्य है।

13.

जो अपना सब कुछ करती दान,
कर्तव्य तुम्हारा करो प्रकृति का सम्मान।

14.

पर्यावरण स्वच्छ रहेगा तो शरीर रहेगा निरोग,
वर्ना लगते हैं इंसान को बहुत भयंकर रोग।

15.

पानी, पहाड़, पशु और वन, इन सब का करो संरक्षण,
रहेगा तभी अपना जीवन, यदि रहेगा पर्यावरण।

16.

काट दिए जो जंगल हमने तो बादल भी न बरसेंगे,
न करेंगे जो पर्यावरण संरक्षण, तो पानी को भी तरसेंगे।

17.

चलो करें हम वृक्षारोपण,
पर्यावरण का हो संरक्षण।

18.

वसुधा को हरा बनायेंगे,
पर्यावरण हम बचायेंगे।

19.

हाथ बढाओगे तो, इसकी हालत निखर जाएगी,
जो न की पर्यावरण की रक्षा, तो धरती ये मर जाएगी।

20.

अगर बनाओगे धरा को रेगिस्तान,
फिर सबके लिए बन जाएगी ये श्मशान,
पेड़-पौधों से सजाओ इसे
पर्यावरण पर दो तुम ध्यान।

21.

लगाओ पेड़-पौधे और दो उन्हें पानी,
पर्यावरण को दो अपनी निशानी।

22.

मत फैलाओ अब प्रदूषण,
पर्यावरण का करो संरक्षण।

23.

जीवन में न खुशियाँ आएँगी,
यदि धरती से हरियाली जाएगी।

24.

पर्यावरण जो बचाता है,
वही सच्चा ज्ञानी कहलाता है।

25.

धरती उसी की माता है,
स्वच्छ पर्यावरण से जिसका नाता है।

26.

पैदल चलो या साइकिल चलाओ,
अपने साथ धरती की उम्र बढाओ।

27.

कम से कम चलाओ वाहन,
पर्यावरण को करदो पावन।

28.

बाहर निकलो पत्थर के मकानों से
एक बार दोस्ती तो करो हरे भरे मैदानों से।

29.

पर्यावरण बचने के लिए हर मनुष्य जो अपना फर्ज निभाए,
सबके प्रयासों से फिर ये धरा ही स्वर्ग बन जाए।

30.

न ये धरा होगी न ये आसमान होगा,
जो पर्यावरण न बचा तो कोई इन्सान न होगा।

पढ़िए :- पर्यावरण प्रदूषण और हमारी यज्ञ पद्धति

पर्यावरण पर स्लोगन आपको कैसे लगे हमें अवश्य बताएं और इन्हें को शेयर कर लोगों को पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूक करें।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *