सफलता पर बधाई शायरी :- दूसरों की सफलता पर उन्हें बधाई संदेश देने वाली शायरियाँ

सफलता एक इन्सान के लिए बहुत बड़ी चीज होती है। लेकिन उसका कोई अस्तित्व नहीं रह जाता यदि कोई उसकी सराहना करने वाला न हो। पर सराहना करेगा कौन? अरे सफलता पाने वाले के मित्र, रिश्तेदार और शुभचिंतक। जोकि हम ही होते हैं। ये जरूरी नहीं की हम ही सफल हों। लेकिन ये जरूरी है की हर सफल होने वाले को बधाई संदेश जरूर दें। तो आइये पढ़ते हैं सफलता पर बधाई शायरी ।

सफलता पर बधाई शायरी

सफलता पर बधाई शायरी

1.

मुस्कुराया है हर चेहरा
हर ओर ख़ुशी सी छाई है,
मेहनत से पायी सफलता की
तुम्हें दिल से बधाई है।


2.

मुबारक हो तुमको जो
तुमने ये मुकाम पाया है,
ये फल ही है तुम्हारी मेहनत का
जो वक़्त तुम्हारा दौर लाया है।


3.

आंधियां भी आयीं थी तूफ़ान भी आये थे,
मगर न जरा भी तुम्हारे कदम लडखडाये थे,
मिल रही है जो बधाई आज इतनी तादाद में
ये उसी का सिला है जो तुम वक़्त से टकराए थे।


4.

अँधेरा चीर परेशानियों का
जो तुम खुशनुमा उजाले में आयी हो,
जिन्दगी की इस बड़ी सफलता पर
तुम्हें तहे-दिल से बधाई हो।



5.

बधाई हो तुम्हें कि तुमने
खुद को साबित कर दिखाया है,
पार किया है हर इम्तिहान
फिर जाकर सफलता को पाया है।


6.

परिश्रम के पसीने से जब
सफलता की फसल खिलती है,
तब किसी एक से नहीं
पूरे ज़माने से बधाइयां मिलती हैं।


7.

इंसान वही है जिसका चुनौतियों से नाता है,
हर पल अपनी सफलता की ओर जो कदम बढ़ाता है,
यूँ ही नहीं करता ये जमाना उस की वाह-वाही
बधाई उसे तभी मिलती है जब वो वक़्त से जीत जाता है।


पढ़िए :- सफलता पर जादुई पत्थर की कहानी


8.

सिलसिला तुम्हारे साथ ये दिन रात चले
हर कदम पर सफलता की सौगात मिले,
मिले बधाईयाँ तुम्हें जमाने भर की
बस तुम्हें हमारी कमी का एहसास न मिले।


9.

निकल आते हैं वो समस्याओं की गहराइयों से
जिनके हौसलों में गजब की जान होती है,
वही होते हैं असल में हर सफलता के काबिल
मिलने वाली बधाइयों से उनकी शान होती है।



10.

गर्व है हमने कि तुमने पाकर सफलता
अपनी एक नयी पहचान बनायीं है,
खुद का रौब बढाया है और
हम सबकी शान बढ़ाई है।


11.

इसी तरह बढ़ते रहो सफलता की ओर आगे
हर मंजिल को तुम आसानी से पार करो,
हमारी दुवाएं भी सदा संग रहेंगी तुम्हारे
इसी बात पर हमारी बधाई स्वीकार करो।


12.

तुम्हारी इस कामयाबी से हमें तुम पर नाज है,
इस बात की बधाई हो तुम्हें
कि तुम्हारे सिर पर आज वक़्त का ताज है।


13.

जो सवेरा हुआ है तो अँधेरी रात भी रही होगी
सन्नाटा पसरा है तो हवा तेज भी बही होगी,
बधाइयों का कारवाँ यूँ ही नहीं चल पड़ा तेरी ओर
वक़्त की ज्यादतियां तुमने भी सही होंगी।


14.

तुम्हारे काम ही तुम्हारी पहचान हैं
इसी बात से हमारी शान है,
बधाई हो जो तुमने ये मुकाम हासिल किया
यूँ तो जिन्दा कई है यहाँ,
मगर तुमने साबित किया कि
तुम इक इंसान हो।




आपको यह शायरी संग्रह ‘ सफलता पर बधाई शायरी ‘ कैसा लगा? हमें अपने विचार कमेंट बॉक्स में लिख कर बताएं।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *