सकारात्मक सुविचार | सुविचार संग्रह – 2 by संदीप कुमार सिंह

आप पढ़ रहे है – सुविचार संग्रह – 2 सकारात्मक सुविचार

सुविचार संग्रह – सकारात्मक सुविचार

सकारात्मक सुविचार

1.

अगर इंसान मन में अपनी हार सोच ले तो उसे भगवन भी जीत नहीं दिला सकते,
और अगर इंसान मन में अपनी जीत सोच ले तो उसे भगवन भी नहीं रोक सकते।


2.

परेशानियां जिंदगी में नहीं हमारे मन में हैं,
जिस दिन हमने मन पर विजय पा ली जिंदगी अपने आप संवर जायेगी।


3.

दिल में चाहत और सर पे जुनून हो, ऊँची ख्वाहिशें और उबलता खून हो
मेहनत के रंग बने एक मिसाल नयी तब जाकर कहीं दिल को सुकून हो।


4.

मंजिल तभी पायी जा सकती है दोस्तों, जब जोश शरीर में और मन में सुकून हो।


5.

गलती करना बुरी बात नहीं है, बुरा है तो उसके हो जाने के बाद उसे सुधारने की कोशिश न करना।


6.

स्वयं पर विजय पाकर ही, संसार पर विजय प्राप्त की जा सकती है।


7.

हालातों को न बदलें खुद को बदलें, हालात अपने आप बदल जाएंगे।


8.

आप तब तक कुछ नहीं कर सकते, जब तक आप कुछ सोचते नहीं हैं।
सफल होने के लिए, सकारात्मक सोच जरूरी है, 
नकारात्मक विचार हमें आगे नहीं बढ़ने देते।


9.

जब तक आप किसी लक्ष्य के लिए खुद को पूर्ण रूप से समर्पित नहीं करते,
तब तक लक्ष्य प्राप्ति में संशय बना रहता है।


10.

जीवन के अनुभवों से प्राप्त ज्ञान ही सच्चा ज्ञान है।


11.

मन में विश्वास और खुद में काबिलीयत हो तो
ऐसा कोई कार्य नहीं है जो इंसान नहीं कर सकता।


12.

गलती माफ़ी मांगने से नहीं सुधारने से सही होती है।


13.

हमारी सबसे बड़ी ताकत हमारा मनोबल है,
जब तक हृदय में आत्मविश्वास न होगा, हम किसी कार्य में सफल नहीं होंगे।


14.

कोई जन्म से महान नहीं होता हर कोई कर्म से महान बनता है, और आप भी उनमे से एक बन सकते हैं।


15.

तुम्हारे सारे सवालों का जवाब तुम्हारे अन्दर ही है,
बस प्रयास करो तुम्हे वो सब हासिल होगा जो तुम चाहते हो।

पढ़िए- सुकरात के अनमोल वचन | Socrates Best Quotes In Hindi

ये सुविचार संग्रह आपको कैसा लगा हमें जरुर बताये। अगर आपके पास भी ऐसे विचार है तो हमारे पाठको से साथ शेयर करे और, ऐसे सकारात्मक विचार आप हमारे फेसबुक, गूगल प्लस और ट्वीटर पेज में भी प्राप्त कर सकते है, अभी हमसे जुड़े।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उम्मीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

  1. नवीन कुमार जैन says:

    सकारात्मक सुबिचार जीबन के लिए अनमोल खजाने का संग्रह है।जब चाहें खर्ज करे कभी नही खत्म होने बाला हसि जीबन पर्यन्त साथ रहेगा।

Leave a Reply

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।