पिता क्या है ? पिता के महत्व पर एक छोटी कविता | Hindi Poem On Father

हमारे जीवन में हम हर चीज की एक परिभाषा पढ़ते हैं। ये भाषाएँ तथ्य पर आधारित होती हैं। लेकिन भारत ऐसा देश है जहाँ कुछ परिभाषाएं भावनाओं से बन जाती हैं। ऐसी ही एक परिभाषा मैंने भी “ पिता क्या है ?” के रूप में पिता पर कविता लिखने की कोशिश की है।

पिता क्या है?

पिता क्या है -Pita Par Kavita

पिता एक उम्मीद है, एक आस है
परिवार की हिम्मत और विश्वास है,
बाहर से सख्त अंदर से नर्म है
उसके दिल में दफन कई मर्म हैं।

पिता संघर्ष की आंधियों में हौसलों की दीवार है
परेशानियों से लड़ने को दो धारी तलवार है,
बचपन में खुश करने वाला खिलौना है
नींद लगे तो पेट पर सुलाने वाला बिछौना है।

पिता जिम्मेवारियों से लदी गाड़ी का सारथी है
सबको बराबर का हक़ दिलाता यही एक महारथी है,
सपनों को पूरा करने में लगने वाली जान है
इसी से तो माँ और बच्चों की पहचान है।

पिता ज़मीर है पिता जागीर है
जिसके पास ये है वह सबसे अमीर है,
कहने को सब ऊपर वाला देता है ए संदीप
पर खुदा का ही एक रूप पिता का शरीर है।

इस कविता का विडियो देखे

पढ़िए :- पिता पर शायरी | पिता को समर्पित शायरी संग्रह By संदीप कुमार सिंह

आपको ये कविता ” पिता क्या है ? ” कैसी लगी? आपके विचार हमें कमेंट के माध्यम से बताये और अपने दोस्तों और परिचितों के साथ फेसबुक ट्विटर और गूगल प्लस में शेयर जरुर करे ताकि हमें ऐसे बेहतरीन कविताये लिखने की प्रेरणा मिलती रहे । आप ऐसे बेहतरीन पोस्ट सीधे फेसबुक में भी पा सकते है इसके लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे।

अगर आप ईमेल से ऐसे पोस्ट पाना चाहते है तो हमारे ईमेल updates के लिए सब्सक्राइब करे। अगर आप अभी pc से हमारा ब्लॉग पढ़ रहे है तो राईट साइड में फेसबुक पेज और ईमेल सब्सक्रिप्शन का मेनू है। अगर आप मोबाइल से पढ़ हे है तब निचे जाने पे आपको वो आप्शन मिलेंगे। धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना शेयर और लाइक करे..!

  • 35
    Shares

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

शायद आपको ये भी पसंद आये...

26 लोगो के विचार

  1. रूद्र says:

    अतिसुन्दर

  2. RAM NARAYAN KASHYAP HARDOI UP says:

    I Love My Father

  3. Kuldeep says:

    My father is great????????

  4. पिता को समर्पित बहुत ही सुंदर और संजीदा किस्‍म की रचना प्रस्‍तुत की है आपने। इसके लिए आपका धन्‍यवाद।

    • Mr. Genius says:

      प्रशंसा के लिए आपका बहुत आभार जमशेद आज़मी जी। इसी तरह हमारे साथ बने रहिये। धन्यवाद।

  5. Anand Pal singh says:

    Very nice line for all children

  6. Jayanti Dewangan says:

    Thanks for these Dedicating song

  7. bittu kumar says:

    i like it bro

  8. Udham Singh Choudhary says:

    लाजबाव

  9. drverma says:

    पिता का महत्व बहुत ही अच्छा है मुझे भी इसका एहसास
    16 साल बाद हुआ जब मुझे दो जुड़वां लडकियां हुई आज मेरे एक संतुष्ट और खुश पिता हुं

    • सबसे पहले आपको बहुत-बहुत बधाई हो। पिता तो भगवान की एक ऐसी देन है जो हमारे जीवन में साथ रहकर हमे सद्मार्ग पर चलने और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। आशा है आपको भी अपने पिता की महानता की अनुभूति हो गयी होगी। एक बार फिर से आपको बधाई व ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद।

  10. ikbal says:

    Very nice brother kya kavita likhi hain

  11. Shista says:

    Not so good you can write better

  12. लखन साहू says:

    बहुत सुन्दर !

अपने विचार दीजिए:

Your email address will not be published. Required fields are marked *