पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता :- भारत को मिले ऑस्कर की सामान्य जानकारी

ऑस्कर क्या है ये तो आप हमारी पिछली पोस्ट में पढ़ चुके हैं। अगर नहीं पढ़ा तो पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। आइये अब हम जानते हैं कौन थे पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता और कुछ रोचक घटनायें और कुछ रोचक जानकारियां :-

पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता

पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता

सबसे पहला ऑस्कर पाने वाले अभिनेता

आम तौर पर किसी को सबसे पहले पुरस्कार तभी मिलता है जब पुरस्कार समारोह में उसका नाम पहले लिया जाए। परन्तु ऑस्कर के मामले में ये कुछ अलग ही था। ऑस्कर का पहला अवार्ड मिला था एमिल जेनिंग्स को और मजे की बात ये थी की ये पुरस्कार उन्हें समारोह से कई दिन पहले ही मिल गया था। आज कल कलाकारों को एक ही फिल्म के लिए अवार्ड दिया जाता है लेकिन उन्हें दो फिल्मों के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला था। ये दो फ़िल्में थीं :- ” द लास्ट कमांड ” और ” द वे ऑफ़ ऑल फ्लेश “।

एमिल जेनिंग्स को ऑस्कर अवार्ड समारोह से कुछ दिन पहले ही यूरोप लौटना था। जिस कारन उन्होंने अकादमी से पहले ही पुरस्कार देने का आग्रह किया और अकादमी इस परे सहमत हो गयी। इस तरह एमिल जेनिंग्स ऑस्कर पाने वाले पहले व्यक्ति बन गये।

ऑस्कर पाने वाली पहली अभिनेत्री

पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता

पहली सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का ऑस्कर ‘जेनेट गय्नोर’ को फिल्म ‘7 हेवन’, ‘स्ट्रीट एंजेल’ और ‘सनराइज’ के लिए 1929 में मिला था। ये पहला अवसर था जब एक अभिनेत्री को 3 अलग-अलग फिल्मों के लिए एक अवार्ड मिला था। अगले वर्ष वह फिर से इस पुरस्कार के लिए नोमिनेट हुयी थीं।

पहले एक ऑस्कर अवार्ड कई एक से ज्यादा फिल्मों के लिए मिल जाता था। चौथे पुरस्कार समारोह में ये नियम बदला गया और सिर्फ एक ही फिल्म में सर्वश्रेष्ठ काम करने वाले को यह पुरस्कार दिया जाने लगा। आज कल यह पुरस्कार 1 साल में रिलीज़ हुयी फिल्मों में से चुनी गयी फिल्मों को मिलता है। लेकिन पहले छः पुरस्कार समारोह में पिछले दो साल की फिल्मों में से विजेताओं को चुना जाता था।

सबसे ज्यादा बार ऑस्कर अवार्ड विजेता

वैसे तो कई कलाकार ऑस्कर जीत चुके हैं लेकिन एक ऐसा नाम है जिन्होंने सब से ज्यादा बार ऑस्कर जीता है। उनका नाम है कैथरीन हेपबर्न। ये दो या तीन बार नहीं बल्कि 4 बार ऑस्कर जीत चुकी हैं।

ऑस्कर के लिए भेजी गई पहली भारतीय फिल्म

आजादी के 10 साल बाद 1957 में भारत की तरफ से ऑस्कर के लिए भेजी जाने वाली सबसे पहली फिल महबूब खान की मदर इंडिया थी। जिसे ऑस्कर के लिए चुना भी गया लेकिन इसे ऑस्कर अवार्ड न मिल सका।

ऑस्कर विजेता पहली भारतीय फिल्म

भारत को पहला ऑस्कर अवार्ड 1983 में फिल्म गाँधी के लिए मिला। यह अवार्ड भानू अत्थैया को कॉस्टयूम डिजाइनिंग के लिए मिला था। वह ऑस्कर अवार्ड प्राप्त करने वाली भारत की पहली नागरिक और पहली महिला हैं।

ऑस्कर पाने वाले पहले भारतीय पुरुष

पहले ऑस्कर अवार्ड विजेता

भारत की तरफ से ऑस्कर पाने वाले पहले पुरुष सत्यजीत रे थे। उन्होंने ने अपना कैरियर चित्रकार के रूप में शुरू किया। फ़्रांसिसी फ़िल्म निर्देशक ज़ाँ रन्वार से मिलने पर और लंदन में इतालवी फ़िल्म लाद्री दी बिसिक्लेत (Ladri di biciclette, बाइसिकल चोर) देखने के बाद उनकी रूचि निर्देशन में जागी और उन्होंने ने फिल्मों का निर्देशन शुरू किया फ़िल्म निर्देशन की ओर इनका रुझान हुआ। आगे चल कर इसी की बदौलत उनको यह पुरस्कार मिला। लेकिन या पुरस्कार किसी फिल्म के लिए नहीं बल्कि उनके द्वारा बनायीं गयी फिल्मों के और फिल्म जगत में उनके योगदान के लिए दिया गया था। भारतीय फिल्म जगत में किसी भी भारतीय को मिला यह एक विशेष प्रकार का सम्मान था। जिसे ऑस्कर के रूप में भारत को सत्यजीत रे के जरिये मिला।

सबसे ज्यादा ऑस्कर पाने वाले भारतीय

सबसे ज्यादा ऑस्कर पाने वाले भारतीय हैं ए. आर. रहमान। इन्हें स्लमडॉग मिलियनेयर में सर्वश्रेष्ठ गीत और सर्वश्रेष्ठ संगीत के लिए ऑस्कर अवार्ड मिला।

भारत और ऑस्कर से जुड़ी कुछ और जानकरी

ऑस्कर अवार्ड के लिए अब तक 50 से ज्यादा फिल्मों को भेजा जा चुका है। इनमें 9 तमिल, 3 मराठी, 2 बंगाली, 2 मलयालम, 1 तेलेगु और एक गुजरती फिल्म हैं। जिनमें से 3 फ़िल्में ऑस्कर के लिए नामांकित हुयीं लेकिन ऑस्कर न जीत सकीं। वहीं भारत अब 2 फिल्मों से अब तक 4 ऑस्कर जीत चुका है।

इन सब के अलावा अगर आप ऑस्कर अवार्ड से सम्बंधित या किसी और चीज, जगह या व्यक्ति के बारे में कुछ जानना चाहते हैं तो तुरंत लिखें कमेंट बॉक्स में। हम आपके सवालों का जवाब देने का पूरा प्रयास करेंगे।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *