नए साल पर कविता :- नया इतिहास रचाना है | नव वर्ष पर उत्साहवर्धक कविता

नए साल पर मन में नई उमंगें हिलोरें मारने लगती हैं। लगभग सभी लोग नए साल में अपने लिए कुछ नए लक्ष्य निर्धारित करते हैं। जो वो बीते हुए साल में नहीं कर पाए। नया साल एक नयी शुरुआत करने का एक बहुत ही अच्छा बहाना होता है। बस उन्हीं लोगो के उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए हमने उनका उत्साह बढाने के लिए एक छोटी सी कोशिश की है। तो आइये पढ़ें नए साल पर कविता और खुद को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें :-

नए साल पर कविता

नए साल पर कविता

भूल के बीती बातों को
एक नए मुकाम को पाना है,
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

उत्साह न अब गिरने पाए
राहों में न भटकने पायें
छेड़ें ऐसा संगीत नया
पूरी दुनिया ही गुनगुनाये,
रुकना नहीं है अब हमको
लक्ष्य की तरफ कदम बढ़ाना है
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

जो समझें हमको सिक्के खोटे
अब उनको हम दिखलायेंगे
चमकेंगे हीरे की तरह हम जब
वो दांतों तले ऊँगली दबायेंगे,
करके पूरी मेहनत हमको
अपना ऐसा नाम बनाना है
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

गिरे बहुत हैं ठोकरों से
अब हमको नहीं गिरना है
कोई भी मुसीबत अब आये
हमको मंजूर भी भिड़ना है,
करके मजबूत इरादों को
हमें अपने लक्ष्य को पाना है
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

तोड़ के सरे बंधन हमको
आसमान में उड़ना है
कदम जमीं पर ही रख के
सीढ़ी सफलता की चढ़ना है,
पाकर सब कुछ हमको स्वयं को
अहंकार से बचाना है
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

आशायें माँ-बाप की हैं जो
उनको भी पूरा करना है
उम्मीद है कोई हमसे जिनको
उन पर भी खरा उतरना है,
प्रकाश हो सबके जीवन में
हमें ऐसी लौ को जलना है
नए साल में हमको एक
नया इतिहास रचाना है।

पढ़िए :- नए साल की बेहतरीन शायरी

नए साल पर कविता :- “नया इतिहास रचाना है” के बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उम्मीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

  1. Anurag prasad says:

    Hello dear… Sandeep sir… Aaki कविताएँ बेहद शानदार रहती है… जो एक नई ऊर्जा और खुशियां अपार देती है… एक गुजारिश थी… आपकी कविताओं का मैं पाठ करना चाहता हूं… अपनी आवाज मे… अगर आप इज़ाज़त दे तो… क्या मैं कर सकता हूं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *