नशा मुक्ति स्लोगन by संदीप कुमार सिंह | Nasha Mukti Slogan in Hindi

हमारे देश में नशे की समस्या दिन-प्रतिदिन बढती जा रही है। युवा पीढ़ी नशे का ज्यादा शिकार हो रही है। इसे रोकने के लिए बहुत सारे प्रयास किये जा रहे हैं। नशे के विरुद्ध हमारी अवाज को मजबूत करने का ये छोटा सा प्रयास स्वरुप हमने नशा मुक्ति स्लोगन हमारे पाठको के लिए प्रस्तुत किये है।

नशा मुक्ति स्लोगन | Nasha Mukti Slogan

nasha mukti slogan

1. हर दिल की अब ये है चाहत
नशा मुक्त हो मेरा भारत।

2. ज्ञान हमें फैलाना है,
नशे को मार भगाना है।

3. जब जागेगी ये आत्मा,
होगा तभी नशे का खात्मा।

4. नशे को छोड़ो, रिश्ते जोड़ो।

5. नशा जो करता है इंसान
कभी न उसका हो कल्याण,
उसको त्यागें हैं सब प्राणी
जल्द ही मिलता है श्मशान।

6. चारों तरफ है हाहाकार
बंद नशे का हो बाजार।

7. ये जो बिगड़ी दिशा दशा है आज,
नशे का सारा ये है काज।

8. कहीं न नशेड़ी दिखने पाये,
नशा न अब यहाँ टिकने पाये।

9. उम्मीद न कोई आशा है
अब चारों और निराशा है,
बर्बाद तुम्हें ये कर देगा
नशे की यही परिभाषा है।

10. दिल पे नशा ये भारी है,
सबसे बड़ी बीमारी है।

11. यही संदेश सुबह और शाम,
नशा मुक्त हो अब आवाम।

12. भारत की संस्कृति बचाओ
अब तो नशे पर रोक लगाओ।

13. नशे की छोड़ो रीत सभी
ख़ुशी के गाओ गीत सभी।

14. घर-घर में सबको जगाना है
हमें देश इक नया बनाना है,
हो जाये तंदरुस्त अब भारत
नशे को दूर भगाना है।

15. नशेड़ियों के नशे भागो, नशेड़ियों को नहीं।

16. कुछ पल का नशा, सारी उम्र की सजा।

17. खुद बिगड़े हो तुम जो अब तो
बच्चों को क्या सिखलाओगे,
खुद जो करने लगे नशा हो
उनको कैसे बचाओगे?

18. देख लो कैसा कलयुग आया
माया में ही सब भ्रमित हैं,
ऐसी नशे की लत ये देखो
विष में दिखता अब अमृत है।

19. परिवार पर अपने दो अब ध्यान,
नशे की लत का करो समाधान।

20. नशे की लत जो जारी है
ये बहुत ही अत्याचारी है,
मेले लगते हैं श्मशानो में
आज इसकी तो कल उसकी बारी है।

पढ़िए – नशा मुक्ति अभियान को समर्पित स्लोगन भाग 2

पाठकों से निवेदन है की ये स्लोगन फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस, व्हाट्सएप्प और जहाँ भी हो सके ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, और समाज को एक कदम सुधार की ओर बढ़ने में मदद करे। धन्यवाद।

तब तक पढ़े ये बेहतरीन लेख-

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना शेयर और लाइक करे..!


Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

शायद आपको ये भी पसंद आये...

अपने विचार दीजिए:

Your email address will not be published. Required fields are marked *