मुझे अपनी मंजिल को पाना है | Inspirational Hindi Kavita

मुझे अपनी मंजिल को पाना है

मुझे अपनी मंजिल को पाना है

भटकता हुआ मैं राही नहीं हूँ
आगे बढ़कर मुझे अपनी मंजिल को पाना है।
देख चट्टानों सी मुसीबतों को
ना हिम्मत हारनी है
चीर कर इनका सीना
मुझे अपनी राह जाना है।

बहुत दर्द भरा है सबके जीवन में आजकल
मैं मिटा तो नहीं सकता लेकिन
कम करने के इरादे से
मुझे सबको हँसाना है।

ख़त्म हो जाती है जहाँ
ख्वाहिशें दुनिया भर की
आज तक ना मिल पाया
ना जाने कहा वो पैमाना है।
भटकता हुआ रही नहीं हूँ मैं
आगे बढकर मुझे अपनी मंजिल को पाना है।

वक्त कहाँ है किसी के पास
की कोई दर्द सुने मेरा
मुझे ख़ामोशी से हर लफ्ज
सबके दिलों तक पहुंचाना है।

साथ देता है हर हाथ
जब सितारे बुलंद होते हैं
गर्दिशें हो जब
किस्मत में बेशुमार।
अनजान लोगों में फिर
अपनों ने कहा पहचाना है

जहाँ मिले दौलत प्यार की
अब मुझे उस जहान तक जाना है।
भटकता हुआ रही नहीं हूँ मैं
आगे बढकर मुझे अपनी मंजिल को पाना है।

कविता – रास्ता भटक गया हूँ मैं

ये कविता आपको कैसी लगी हमें जरुर बताये, और शेयर करे। अगर आपमें भी ऐसे कविता लिखने का शौक है तो हमारे साथ जुड़ के हमारे लेखक बन सकते है। अधिक जानकारी के लिए हमें फेसबुक पेज में या ईमेल से हमसे संपर्क करे। धन्यवाद तबतक पढ़िए ये बेहतरीन कवितायें-

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

4 Responses

  1. Sandeep Negi कहते हैं:

    So nice poem. Mujhe pasand aayi hai.

  2. MJ Manoj कहते हैं:

    वोह अल्फ़ाज़ ही क्या जो समझानें पढ़ें,
    हमने मुहब्बत की है कोई वकालत नहीं

    लाइन वही है…
    जिसे पढ़ कर दिल को यूँ लगे कि…
    अरे हाँ…!!!!
    यही बात तो..

    लम्हों की एक किताब है ज़िन्दगी,
    साँसों और ख्यालों का हिसाब है ज़िन्दगी,
    कुछ ज़रूरतें पूरी, कुछ ख्वाहिशें अधूरी,
    बस इन्ही सवालों का जवाब है ज़िन्दगी

    Aap n jo bhi likha h useke lye y kuch sabad h jo sache h bilkul aapki kavita ki trah…
    Sach kahu to guru aap ki kavita kamal ki h, aap ki kavita usi tarah ki jis tarah -dhola maru karti m maravi ko apne dhola ki cha m , usse milne ki tadap m , 12 mas ki rtuon m bs wo virah vedna lipt ho uthi or hmesa dhola k ibtazar m chitiya lihti rahi or khud ko virah vedna ki tadap m or tadpati gyi…..
    Aapki kavita usi trah ki jis tarah marvani ka haal tha….

    • Mr. Genius Mr. Genius कहते हैं:

      Thank you very much MJ Manoj ji.
      आपके विचारों से मुझे एक नई प्रेरणा मिली है की इंसान को अपने दिल के जज़्बात कलम द्वारा कागज़ पर उतार देने चाहिए। खुद को तो सुकून मिलता ही है। पढ़ने वाले को भी एक चैन सा मिल जाता है।
      ” उसके हर गुनाह का हम हिसाब नहीं रखते,
      टूट जातें है अक्सर सपने
      इसलिए जिन्दा हम अपने ख्वाब नहीं रखते।”
      आपका अति धन्यवाद।

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।