प्रेरक हिंदी कविता – हौसला | Motivational Hindi Poem – hausla

कविताये होती है जो मन को अन्दर तक छू जाती है। कविता में निहित भावनाए, मन को उत्साहित और उर्जावान कर देती है। इसी मकसद से एक हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक हिंदी कविता – हौसला हमारे  पाठको के लिए पेश कर रहे है। जरुर पढ़े।

लेखक – संदीप कुमार सिंह

प्रेरक हिंदी कविता – हौसला

प्रेरक हिंदी कविता - हौसला

कमज़ोर दिल हैं वो,
जो सहारों की तलाश करते हैं,
बैसाखियाँ बना बहानों की
मदद की फरियाद करते हैं।

टूट कर बिखर जाते हैं
अकसर ठोकरों से,
जो बता खुद को मजलूम
बर्बाद किया करते हैं।
गर जीना है शान से
तो सीना तान ले,
कर मज़बूत हौंसला
काबिलियत अपनी पहचान ले।

ऊंचाइयों पर जाने वालों का
ये दुनिया इस्तकबाल करती है,
पहुँच जाए जो बुलंदियो पर
ए “गुमनाम
ये झुक-झुक कर
सलाम करती है।


[social_warfare]

अगर ये कविता आपको अच्छी लगी तो जरुर शेयर करे….

ये बेहतरीन कविताये भी पढ़िए-
हमसे जुड़िये
हमारे ईमेल सब्सक्राइबर लिस्ट में शामिल हो जाइये, और हमारे नये प्रेरक कहानी, कविता, रोचक जानकारी और बहुत से मजेदार पोस्ट सीधे अपने इनबॉक्स में पाए बिलकुल मुफ्त। जल्दी कीजिये।
We respect your privacy.

 

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

4 लोगो के विचार

  1. vikas says:

    When I read this …… it’s like this poem attach me to my world really it’s good and it help those people’s who lost their staved. ..

  2. Raj Kishor prasad says:

    Very good

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *