कुछ वो पल: 50 कविताओं का संग्रह | पुस्तक समीक्षा | Book Review

“आपने प्रेम कहानियाँ तो बहुत पढ़ी होगी, पर आपने कभी ऐसा कोई किस्सा कविताओं के संग्रह के रूप में पढ़े है?” ये बात कहती सुब्रत सौरभ जी की किताब “कुछ वो पल” उनके ५० कविताओं का संग्रह है। और इसी के साथ ये उनका पहला किताब है। आइये जानते है क्या है खास और आम इस किताब में। एक आम पाठक के नजर से।

कुछ वो पल : पुस्तक समीक्षा

कुछ वो पल पुस्तक समीक्षा

किताब एक नजर में:-

शीर्षक:  कुछ वो पल
लेखक:  सुब्रत सौरभ
प्रारूप:  कविता संग्रह
पृष्ठ:  ७३

किताब (कविता संग्रह) का मुख्य सार:

लेखक के अनुसार, ये किताब आपको एक ऐसे सफ़र में ले जायेगा जिसमे आपको पढने मिलेगा एक नौजवान लड़के के जीवन में आने वाली अलग-अलग पड़ाव और संघर्षो के अनुभव। जैसे,

पढाई के लिए घर से दूर जाना,

“ज़िन्दगी के ऐसे मोड़ पे खड़ा था,
हाथ में थी किताबे और घर छुट रहा था।”

वहां नए दोस्त बनाना,

“सपनो का क्या है हम नये बन लेंगे,
मगर मिलते नही दोस्त बिछड़ने के बाद।”

प्यार ढूंढना,

“चल छोड़ दुनिया को दूर कही हम चलते है,
थाम के हांथो में हाथ, दो बातें युहीं करते है।”

इसके बाद अधिकतर कविताएँ प्यार के अलग-अलग अनुभव, ब्रेकअप, दुःख, गुस्सा, हताशा, आदि भावनाओ को कविता के रूप में संजोया गया है।

लेखन:

सुब्रत सौरभ जी ने ये कविताएँ बहुत ही सरल शब्दों और आसान लाइनो में लिखी है। इसमें ज्यादा बड़े शब्द नही मिलते और साधारण हिंदी शब्द जो हम बोलचाल में उपयोग करते है उन्ही शब्दों से पूरी कविताएँ बनी है। सामान्य धाराप्रवाह में लिखा गया ये छोटी-छोटी कविताएँ आसानी से हर पाठक को समझ आ सकती है। कही-कही जरुर कुछ लाइन प्रवाह से अलग प्रतीत जरुर होता है। शायद इसलिए क्योकि पुस्तक लेखन में ये लेखक का पहला अनुभव है।

किताब की खास बाते:

अधिकतर पाठको को इस किताब की कुछ बातें जरुर पसंद आयेगा। जैसे की, कविता लिखने का बहुत ही सरल अंदाज, छोटी-छोटी कविताएँ (लम्बी कविताएँ अक्सर बोरियत पैदा करती है अगर बहुत जबरदस्त ना हो तो)। इन कविताओं में कुछ लाइने मुझे बहुत ही अच्छा लगा जो शायद आपको भी पसंद आये। उनमे से है,

  • कमरे की वो चारपाई,
    अब आँगन में लगा रखा है,
    चौपाल पे आये यारो से,
    दिल लगा रखा है।

    • ख्वाहिशों से भरी झोली है हमारी,
      देखो तुम हमें फ़क़ीर न समझना,
      मुट्ठी में कैद है किस्मत हमारी,
      देखो तुम उसे सिर्फ लकीर न समझना।
  • ख्वाबो ने उड़ा दी है,
    अब नींदे हमारी,
    देखो तुम हमें आशिक न समझना

    • कुछ तिनके संभाल के रखे है झरोखे पे,
      उन्हें जोड़ के परिंदों को घोसला मिलता है,
      और जब देखता हूँ उनमे बसे बेघर परिंदों को,
      तो जीने का एक हौसला मिलता है।
  • इतना इतरा मत महफ़िल में देख के हमें,
    फिजूल बैठे थे घर पे तो चले आये है,
    यूं न नजरे चुरा के देख हमें,
    ग़लतफ़हमी है की तुझे देखने आये है।

इनके अलावा किताब का बाहरी बनावट भी आकर्षक और गुणवत्ता पूर्ण है।(जैसे की, कवर, पेज, फोंट्स आदि।)

किताब की कमजोरियां:

वैसे तो किताब छोटी है सिर्फ ७३ पेज का जिसमे ५० कविताएँ है। और ऐसे में इसमें कोई कमजोरी मुझे तो नही दिखता। सिर्फ दो बाते है जो मुझे कहीं-कहीं लगा की उनको कुछ अच्छा किया जा सकता था। जैसे की, कुछ कविताएँ ऐसी है जिनमे ज्यादा खास भावनापक्ष मुझे नही महसूस हुआ इसलिए उनका “कुछ वो पल” की सफ़र में होना नही जंचता और दूसरी ये की कही-कही एक दो शब्द कविता के प्रवाह को थोड़ा बिगाड़ देता है।

वैसे ये बस कुछ ही जगह मुझे महसूस हुआ किताब में। जो ये महसूस कराता है की लेखक का ये पहला किताब है।

अंत में:

जैसा की सुब्रत सौरभ जी ने अपने ब्लॉग में कहा है की, “कौन पढता है आजकल, हिंदी में कौन पढ़ेगा।” इन समस्याओ के बावजूद उन्होंने अपनी हिंदी कविताओं को किताब के रूप में पाठको के सामने लाया जोकि बहुत ही सराहनीय कार्य है। किताब में छोटी-छोटी और भावनापूर्ण कविताएँ है। जो सरल शब्दों में लिखी गयी है वो किसी भी पाठक को पसंद आ सकती है। अंत में उन्होंने कुछ शायरियाँ भी लिखी है। कविता और शायरी पढने के इच्छुक पाठको को ये किताब जरुर पढना चाहिए।

आप ये किताब यहाँ से खरीद सकते है:

अमेज़न बुक स्टोर

अमेज़न बुक स्टोर

उम्मीद है सुब्रत सौरभ जी की ये पहली किताब आपको जरुर पसंद आयेगा।


This review is a part of the biggest Book Review Program for Indian Bloggers. Participate now to get free books!

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Chandan Bais

Chandan Bais

नमस्कार दोस्तों! मेरा नाम चन्दन बैस है। उम्मीद है मेरा ये लेख आपको पसंद आया होगा। हमारी कोशिश हमेशा यही है की इस ब्लॉग के जरिये आप लोगो तक अच्छी, मजेदार, रोचक और जानकारीपूर्ण लेख पहुंचाते रहे! आप भी सहयोग करे..! धन्यवाद! मुझसे जुड़ने के लिए आप यहा जा सकते है => Chandan Bais

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *