कविता – जिंदगी आज-कल | Hindi Poem – Zindagi Aajkal

आप पढ़ रहे है कविता – जिंदगी आज-कल ।

जिंदगी आज-कल

जिंदगी आज-कल

गमों के दौर में खुशियों की आहट भी बेमानी सी लगती है,
टूट जाएं जो सपने  तो सच्चाई भी कहानी सी लगती है।

 जिंदगी में हो तो हर तरफ खुशियां ही दिखती हैं
किसी की गुस्ताखी भी नादानी सी लगती है।

वक्त बहता रहता है नदी की तरह
छूट जाए जो किनारा तो लहर भी बेगानी सी लगती है।

छोड़ देते हैं जब भी जब साथ तन्हाई में
तो अपना कहने वाली दुनिया अनजानी लगती है।

कौन निभाता है किसी का साथ यहाँ उम्र भर,
फिर तो उनकी यादें भी इक निशानी सी लगती हैं।

होता वही है जो मुकद्दर में दर्ज हो
फिर भी न जाने क्यों ये परेशानी सी लगती है।

⇒ पढ़िए- जिंदगी क्या है? – जिंदगी पर कविता

Zindagi AajKal

Gamo ke daur me khushiyo ki aahat bhi beimani si lagti hai,
Tut jaye sapne to sachhai bhi kahani si lagti hai.

Zindagi me to har taraf khushiyan hi dikhti hai,
Kisi ki gustakhi bhi nadani si lagti hai.

Waqt bahta rahta hai nadi ki tarah,
Chhut jaye jo kinara to lahare bhi begani si lagati hai.

Chhod dete hai sab bhi sath tanhai me,
To apna kahne wala duniya anjani si lagt hai.

Kaun nibhata hai kisi ka sath yha umra bhar,
Fir to unki yade bhi ek nishani si lagti hai.

Hoti wahi hai jo mukaddar me darj ho,
Fir bhi na jane kyu ye pareshani si lagti hai.

⇒Also Read – Poem On Situation Of Country

Ye Hindi Kavita Zindagi Aajkal Aapko Kaisi Lagi Hame Jarur Bataye, Agar Achhi Lagi To Share Kare.

Thanks. Also Read These Awesome Poems-

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक सब्सक्राइब करे..!

हमारे ऐसे ही नए, मजेदार और रोचक पोस्ट को अपने इनबॉक्स में पाइए!

We respect your privacy.

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

शायद आपको ये भी पसंद आये...

अपने विचार दीजिए:

Your email address will not be published. Required fields are marked *