ड्रग्स के नशे के शिकार लोगो पर एक कविता – खामोश चीख़ | नशा पर कविता

आप पढ़ रहे है, ड्रग्स के नशे के शिकार लोगो पर एक कविता – “खामोश चीख़ “

खामोश चीख़ – ड्रग्स के नशे के शिकार लोगो पर एक कविता

नशे के शिकार लोगो पर एक कविता

सन्नाटे को चीर रही थी, उसकी चीखें इक रात को,
अँधेरे कमरे से शायद वो आज़ादी चाहता था।
उसकी आवाज़ में कोई इन्क़लाब नहीं था,
जो मांग रहा था वो कोई शबाब नहीं था।
मांग रहा था वो ज़हर जिसका वो आदी था,
खामोश सुन रहे थे सब बस वो ही इक फरियादी था।
टूट रहा था एक-एक अंग उसका,
वो खुद ही कारन था अपनी बर्बादी का।

 वो लत उसे उसके दोस्तों ने ही लगवायी थी,
जो लाख चाहने के बाद भी छूट न पायी थी।
हो रहा था तनहा वो अपनों के बीच,
जल रहा था उस आग में जो खुद उसने लगायी थी।

Video: जीतना है सारा जहाँ – प्रेरणादायी हिंदी गीत

कल का उजाला आज अंधकार में था,
बदल गया था वो जबसे नशे के बाज़ार में था।
इस कदर फंस गया था वो अपने ही जाल में,
अपना ही घर ही बेच रहा वो धोखे के व्यापार में था।

घूम रहा था वक़्त बीत हुआ उसके सामने,
खुद को बदल नहीं सकता था वो हालात लाचार में था।
अचानक हर ओर शोर खामोश हुआ,
अब फ़िज़ाओं में दौर हवाओं का था।

खुला दरवाजा तो नज़र आया,
देख जिसे सब को पसीना आया।
झूल रहा था जिस्म इक रस्सी के सहारे
छोड़ चुका था वो दुनिया
जो अब तक तड़प रहा था।

पढ़िए- जिंदगी क्या है? – जिंदगी पर कविता

 शायद इस हरकत से उसको सुकून आया,
चंद लम्हों में माहौल में अजीब सा जूनून आया।
पहले एक रो रहा था अब कइयों को रोते पाया।
डूब गया था एक सूरज नशे की आग में,
वंश के चिराग मैंने कई परिवारों को खोते पाया।

अगर जागती है जमीर तो अब भी जाग जाओ,
वक़्त आ गया है दूर इस बुराई से भाग जाओ।
संभल जाओ कि राह अभी बाकी है,
तमाम उम्मीदें हैं तुमसे जो पूरी करना बाकी हैं,
तमाम उम्मीदें हैं तुमसे जो पूरी करना बाकी हैं।

पढ़िए- नशा मुक्ति पर कहानी- “बुझता चिराग :- Drugs v/s youngsters”

आपको ये ड्रग्स के नशे के शिकार लोगो पर एक कविता कैसी लगी हमें जरुर बताये, और ये कविता दुसरो तक जरुर पहुंचाए,

 

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

4 Responses

  1. Rakesh kumar singh Purw jansampark pdadhikari Bhartey sewa dal कहते हैं:

    Dhanywad mere bhai ab age dekho mai kya krta hau abhi to bihar me band huwa hai ab hamlogo ko pure bhart me band karna

  2. kiran pathak कहते हैं:

    Hello Sandeep ji main bhi ek ngo se judi hu aur ek nasha mukti k liye skit chahti hu ….aapka prayas kafi sarahniye hai thanx

    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh कहते हैं:

      बड़ी सराहनीय बात है जो आप एक संस्था से जुड़ी हैं। बिना किसी स्वार्थ भावना के लोकहित में कार्य करना बहुत ही अच्छी बात है। आपको नशा मुक्ति के लिए स्किट किस माध्यम से चाहिए? हमें बताइये ताकि हम आपको स्किट जल्द से जल्द भेज सकें। हमारे ब्लॉग के साथ इसी तरह बने रहें।
      धन्यवाद।

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।