गुरु की महिमा | गुरु पूर्णिमा और शिक्षक दिवस के लिए कविता

महान कौन नही बनना चाहता? लेकिन महान बनने के लिए इन्सान को ज्ञान की आवश्यकता होती है, जो हमें मिलता है गुरु से। दोस्तों हर सफल इन्सान के जीवन में गुरु का एक अति विशिष्ट स्थान होता है। हमारे हिन्दू धर्म में तो गुरु के स्थान को भगवान से भी ऊँचा बताया गया है। इसी सदर्भ में गुरु की महिमा का वर्णन करता ये कविता हम आपके सामने गुरु पूर्णिमा और शिक्षक दिवस के लिए कविता पेश कर रहे है।

गुरु की महिमा

गुरु की महिमा

गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चल कर बनना है महान,
मेरे अँधेरे जीवन में ज्ञान की ज्योत जलाई,
सिखलाया आपने मुझे नेकी और भलाई,
बताया आपने ही सफलता कैसे पाना है,
कितना ही ऊँचा चला जा, अभिमान कभी न करना है,
गुरु तेरे चरणों की धुल माथे पर सजाना है,
तेरे दिए उपदेशो को जग में फैलाना है,
कमजोरो-दुखियो को नेकी का करके दान,
गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चलके बनना है महान।

हर मुश्किल घड़ी में धीरज रखना सिखाया था,
संसार के सारे जीवो से प्रेम भाव जगाया था,
गिरे को उठाना प्यासे को पानी,
ये सारी बाते सुने मैंने गुरु तेरे ही वानी,
प्रेम दया और करुणा का पाठ मुझे पढ़ाया था,
गुरु तुम ही ईश्वर हो तब समझ मै पाया था,
मन से लालच-लोभ मिटा कर,
पुण्य का नाम बढ़ाना आज हमने लिया है जान,
गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चलके बनना है महान।

धरती पर जब मैंने जनम लिया,
माँ बाप ने मुझे नाम दिया,
पर तेरे ज्ञान से ही समझ मै पाया था,
क्या बुरा क्या भला सारे भेद बतलाया था,
तेरे ज्ञान के प्रकाश से ही राह मैंने पाया था,
जिसने मुझे जीवन की मंजिल पार कराया था,
तेरे हर एक-एक वाणी को सलाम,
ऐ मेरे महान गुरु तुझको सत-सत प्रणाम,
ऐ मेरे महान गुरु तुझको सत सत प्रणाम।
गुरु तेरे ज्ञान से बना हूँ मै विद्वान,
तेरे आदर्शो पर चलकर बनना है महान।


angeshwar bais

गुरु की महिमा का बखान करती इस कविता को हमें भेजा है अंगेश्वर बैस ने जो छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में रहते है। अंगेश्वर बैस जी कविता और गीत लिखने के शौक़ीन है। हमारे ब्लॉग में ये उनकी पहली कविता है। और आगे भी हमारे पाठको को उनकी कुछ बेहतरीन कविताएँ हमारे ब्लॉग में पढने को मिल सकती है।

अगर आपको ये कविता पसंद आया, तो इसे शेयर करना ना भूले। और अगर आप भी लिखते है और अपनी रचना लोगो तक पहुचना चाहते है तो हमें लिख भेजिए। धन्यवाद।


Pic from: Prabhasakshi

आगे क्या है आपके लिए:

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

You may also like...

3 Responses

  1. ashutosh says:

    हरि (भगवान्) और गुरु में कोई भेद नहीं है!!

  2. Banshi says:

    Mere Gurujio ko koti koti pranam.. mom,dad aur mere sabhi teachers..

  3. Priyanshu Kumar says:

    Teachers are the best men of world

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *