बच्चों की कवितायें :- मैं भी स्कूल में जाऊंगा और चलो चलें स्कूल

बचपन में अक्सर कुछ बच्चे स्कूल जाने से डरते हैं और स्कूल जाने के समय रोना शुरू कर देते हैं। लेकिन कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जिनमें स्कूल जाने कि उत्सुकता होती है। ऐसे ही बच्चों की भावनाओं को हमने इन कविताओं में समाहित करने का प्रयास किया है। आशा करते हैं की हम इस कार्य में सफल हुए हों। आइये पढ़ते हैं बच्चों की कवितायें :-

बच्चों की कवितायें

बच्चों की कवितायें

कविता 1. मैं भी स्कूल में जाऊंगा

मम्मी मुझको बस्ता ले दो
मैं भी स्कूल में जाऊंगा,
A B C D पढूंगा मैं भी
क ख ग भी पढ़ कर आऊंगा
सीखूंगा बातें नयी और
आकर सब को बताऊंगा,
मम्मी मुझको बस्ता ले दो
मैं भी स्कूल में जाऊंगा।

पढ़ लिख कर इक दिन मैं भी
नाम बहुत ही कमाऊंगा
होगा गर्व तुझे उस दिन
जब देश के काम, मैं आऊंगा,
कलाम, भगत सिंह जैसा बन कर
इस जग में मैं छा जाऊंगा
मम्मी मुझको बस्ता ले दो
मैं भी स्कूल में जाऊंगा।

आज पढूंगा मैं जो तो
कल मैं भी सबको पढ़ाऊंगा
या फिर सरहद पर जाकर
मैं देश का फ़र्ज़ निभाऊंगा,
आने वाले कल को मैं
इस देश की शान बधाऊंगा
मम्मी मुझको बस्ता ले दो
मैं भी स्कूल में जाऊंगा।

पढ़िए :- गुरु पूर्णिमा पर गुरु की महिमा बताती कविता


कविता 2. चलो चलें स्कूल

चलो चलें स्कूल कि
हमको पढ़ने जाना है,
पढ़ लिखकर आगे बढ़ना है
सफलता की सीढ़ी चढ़ना है
हम ही हैं भविष्य देश के
ये साबित कर के दिखाना है,
चलो चलें स्कूल कि
हमको पढ़ने जाना है।

पानी है शिक्षा हमको और
शिष्टाचार भी पाना है
प्रेम-भाव और भाईचारे का
सन्देश इस जग में फैलाना है,
मन में जो सपने हैं उनको
सच कर के दिखाना है
चलो चलें स्कूल कि
हमको पढ़ने जाना है।

हम ही कल के नेता हैं
डॉक्टर, इंजिनियर और अभिनेता हैं
न हारेंगे हम जीवन में
हम ही तो कल के विजेता हैं,
उठा कलम ज्ञान की हमको
इतिहास इक नया रचाना है
चलो चलें स्कूल कि
हमको पढ़ने जाना है।

पढ़िए :- किताब पर हिंदी कविता

दोस्तों आपको यह बच्चों की कवितायें कैसी लगीं ? हमें अपने बहुमूल्य विचार कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें।

( नोट :- इन कविताओं को स्कूल के या किसी अन्य समारोह में बोलने के लिए प्रयोग किया जा सकता है लेकिन किसी पत्रिका या किसी अन्य स्थान पर किसी भी रूप में प्रकाशित नहीं किया जा सकता। इन कविताओं पर मात्र अप्रतिमब्लॉग का अधिकार है। )

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

शायद आपको ये भी पसंद आये...

अपने विचार दीजिए:

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.