औकात पर शायरी by संदीप कुमार सिंह | Status Shayari in Hindi

इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में सब लोग बहुत तेजी से आगे बढ़ने के लिए कोशिश कर रहे हैं। और ये प्रतियोगिता इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि एक इन्सान दूसरे को एक सीढ़ी की तरह प्रयोग कर रहे हैं। हर मतलबी इंसान या तो औकात के बारे में पूछ रहा है या फिर अपनी औकात दिखा रहा है। इसी को अपना विषय वस्तु बना कर हम आपके सामने ” औकात पर शायरी ” शायरी संग्रह लेकर आये हैं।

औकात पर शायरी

औकात पर शायरी

1.

बिगड़ रहा हो वक़्त तो, न कोई हालात पूछता है,
टकरा जाता है कोई अनजाने में, तो सबसे पहले औकात पूछता है।

2.

दिखा दी है औकात, जिन्हें हम अपना मानते थे,
वो ही निकले बेवफा, जिन्हें सबसे करीब मानते थे।

3.

बात तो औकात की होती है जिंदगी में अक्सर
कोई बता जाता है, कोई दिखा जाता है।

4.

बहुत कोशिशें की थीं, उसने खुद को बदलने की,
मौका मिलने पर जो आज, अपनी औकात दिखा गया।

5.

सिलसिला न रुका खुशियों का
कि वो हमारी खुशियों की सौगात थी,
कैसे आ जाता कोई गम जिंदगी में
उसके आगे ग़मों की क्या औकात थी।

6.

दर्द दिल में और मन में
जज़्बात लेकर घूमते हैं,
इन्सान हैं हम इंसानियत की
औकात लेकर घूमते हैं।

7.

बदल गयी है जिंदगी किसी की
किसी के दिन और किसी की रात बदल गयी है,
अब वो लहजा कहाँ है उसके अल्फाजों में
देखो आज किसी की औकात बदल गयी है।

8.

औकात का पैमाना भी
आजकल पैसा हो गया है यारों,
बिक चुका है ये भी
कुछ रईसदारों के हाथ।

9.

बुरे वक़्त के साथ
जो मैंने अपनी मुलाकात देख ली,
किसी की सच्चाई और
किसी की औकात देख ली।

10.

सफलता की फसल सींचने को
मेहनत की बरसात बनानी पड़ती है,
झुक के सलाम करती है ये दुनिया
पहले बस औकात बनानी पड़ती है।

11.

जिन्हें हमने अपना समझा
वो आज गैरों में हैं,
हमें दिखाते थे जो औकात
वो आज किसी और के पैरों में हैं।

12.

खुद के बारे में वो बताते हैं जिनसे लोग अनजान है
पता लग ही जाता है  हर इन्सान की औकात का,
कारनामे तुम्हारे खुद तुम्हारी पहचान हैं।

⇒पढ़ें संदीप कुमार सिंह का शायरी संग्रह :- झूठी दुनिया के झूठे लोग⇐

[social_warfare]

धन्यवाद।

 पढ़िए ऐसी ही कुछ कवितायेँ :-

हमसे जुड़िये
हमारे ईमेल सब्सक्राइबर लिस्ट में शामिल हो जाइये, और हमारे नये प्रेरक कहानी, कविता, रोचक जानकारी और बहुत से मजेदार पोस्ट सीधे अपने इनबॉक्स में पाए बिलकुल मुफ्त। जल्दी कीजिये।
We respect your privacy.

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उमीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

6 लोगो के विचार

  1. HindIndia says:

    शानदार पोस्ट …. sundar prastuti … Thanks for sharing this!! ???? ????

  2. Shibam Kar says:

    Apke post kafi inspiring tha. Ye sare shayari share karne ke liye apko bohot bohot dhanyabaad.

    • Mr. Genius says:

      धन्यवाद् Shivam Kar ब्लॉग पर आने और प्रोत्साहन देने के लिए। आशा करते हैं आप इसी तरह हौसला अफजाई करते रहेंगे। बहुत बहुत आभार

  3. kadamtaal says:

    बेहतरीन लिखा है।

    दिखा दी है औकात
    जिन्हें हम अपना मानते थे,
    वो ही निकले बेवफा,
    जिन्हें सबसे करीब मानते थे।

    • Mr. Genius says:

      धन्यवाद kadamtaal जी…. इसी तरह हमारे साथ बने रहें। आपका बहुत-बहैत आभार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *